गति से प्रगति

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (NCRTC) भारत सरकार तथा दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान तथा उत्तर प्रदेश राज्यों की संयुक्त क्षेत्र की कंपनी है। इसका काम क्षेत्रीय त्वरित परिवहन पद्धति (RRTS) को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कार्यान्वित करना है ताकि इनके बीच बेहतर संपर्क और पहुँच के माध्यम से संतुलित और टिकाऊ विकास संभव हो सके।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र पर इसका प्रभाव

सतत् विकास

तीव्रगामी पारगमन प्रणाली से दिल्ली समेत समस्त राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सतत् विकास का लक्ष्य हासिल करने में सहायता मिलेगी। इससे उन प्रक्रियाओं को गति मिलेगी जिनसे भावी पीढ़ियाँ सुरक्षित पर्यावरण का लाभ ले सकेंगी और सतत् आर्थिक तथा सामाजिक विकास भी संभव होगा।

संतुलित आर्थिक विकास

तेज गति और निर्बाध परिवहन सुविधा होने से संतुलित आर्थिक विकास संभव होगा, जिसका लाभ समाज के सभी वर्गों को मिलेगा, सारी आर्थिक गतिविधियाँ एक स्थान पर केंद्रित न होने से विकास के अनेकों रास्ते खुलेंगे।

प्रदूषण कम, सड़कों पर भीड़ भी कम

पर्यावरण की दृष्टि से सुरक्षित और कम प्रदूषणकारी क्षेत्रीय त्वरित परिवहन प्रणाली (RRTS) का लाभ यह होगा कि RRTS के माध्यम से तीव्र गति से (औसतन 100 किलोमीटर प्रति घंटा) अधिक संख्या में अधिकाधिक लोगों को परिवहन सुविधाएँ मिलेंगी। मात्र तीन मीटर की जगह घिरने से सड़कों पर भीड़भाड़ भी घटेगी। कुल मिलाकर इससे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में परिवहन के कारण होनेवाले कुल वायु प्रदूषण में कमी आएगी।

आर आर टी एस के बारे में

आर आर टी एस चरण 1

फीचर्ड

July 2018 | Railway Gazette International
Screen-Shot-2018-06-29-at-10.34.06-AM
Greater Delhi’s economic enabler
Vinay Kumar Singh, Managing Director, NCR Transport Corp

Later this year, tenders are due to be called for construction of a 180 km/h railway between Delhi and Meerut, the first line of the future National Capital Regional Rapid Transit System. Occupying a stratum between Indian Railways’ conventional long-distance inter-city and suburban trains, with some of the hallmarks of an urban metro, RRTS will introduce a new approach for India, offering fast, frequent and high capacity intra-regional rail services. Improved connectivity is needed to address the environmental and mobility challenges posed by a rapidly urbanizing society.



Read More >

मीडिया में एन सी आर टी सी