हमारे बारे में

लक्ष्य

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (NCRTC) भारत सरकार तथा दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान तथा उत्तर प्रदेश राज्यों की संयुक्त क्षेत्र की कंपनी है। इसका काम क्षेत्रीय त्वरित परिवहन पद्धति (RRTS) को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कार्यान्वयन है ताकि इनके बीच बेहतर संपर्क और पहुँच के माध्यम से संतुलित और टिकाऊ शहरी विकास संभव हो सके।

पृष्ठभूमि

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और दिल्ली को कनेक्ट करने के लिए एक एकीकृत कम्यूटर रेल नेटवर्क का विचार भारतीय रेल के अध्ययन कमीशन में 1998-99 में प्रस्ताव रखा गया था। अध्ययन ने एक आरआरटीएस नेटवर्क जो कि ऐसी एक फास्ट लोकल ट्रेनों का उपयोग करके कनेक्टिविटी प्रदान करेगा इस संभावना की पहचान की थी। यही प्रस्ताव एनसीआर के शहरों में से कुछ को दिल्ली मेट्रो के विस्तार के आलोक में 2006 में फिर से जांच की थी। यह विचार बाद में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड (NCRPB द्वारा) के स्वामित्व में अपने “कार्यात्मक योजना पर परिवहन के लिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र-2032” के अंतर्गत लाया गया।

एनसीआरपीबी ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के शहरों को आठ RRTS कॉरिडर से कनेक्ट करने के लिए उच्च गति रेल पारगमन सेवाओं की सिफारिश की। तत्कालीन योजना आयोग बाद में एक टास्क फोर्स (2006) का गठन सचिव, शहरी विकास मंत्रालय (शहरी) के नेतृत्व में किया। टास्क फोर्स ने 2009 मे एक स्पेशल पर्पस वेहिकल 100 क्रोरे के लागत में बनाने का प्रस्ताव दिया। इस पैसे का उपयोग उपनगरीय यात्रियों के लिए व्यापक एकीकृत मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम जो की पूरे क्षेत्र में संतुलित और सतत विकास करने में सहायता करेगा।

इस प्रकार NCRTC का गठन किया गया जो कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मल्टी मोडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम को स्तापित करने की नोडल संस्था बना।

संस्थागत निर्माण

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (NCRTC), केन्द्र सरकार और भाग लेने वाले राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के बीच एक संयुक्त साझेदारी संस्था है।
इस साझेदारी के लिए सहमति जताते हुए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर भाग लेने के हितधारकों के बीच 29 वें जून, 2011 को हस्ताक्षर किए। NCRTC में एक इक्विटी शेयर की आरंभिक पूंजी 100 करोड़ रुपये की स्थापना के लिए सहमति हुई।

हितधारकों से इस इक्विटी शेयर के लिए योगदान 1 अगस्त, 2013 तक प्राप्त हुए थे। इसके साथ मेमोरॅंडम ऑफ असोसियेशन (MOA) और असोसियेशन ऑफ अग्रीमेंट (AOA) में भी हस्ताक्षर हुआ ।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (NCRTC) औपचारिक रूप से एक पूर्णकालिक प्रबंध निदेशक, कार्यात्मक निदेशक, पदेन निदेशक और सहायक स्टाफ के साथ कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत एक कंपनी के रूप में 21 अगस्त 2013 को शामिल किया गया था। केंद्र और राज्यों के बीच एक संयुक्त भागीदारी परियोजना के रूप में एनसीआरटीसी के निदेशक, भाग लेने वाले राज्यों से प्रत्येक नामांकित और भारत सरकार से चार नामित निदेशक है। सचिव (यूडी) के निदेशक मंडल के पदेन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, शहरी विकास मंत्रालय के एक उम्मीदवार है। एनसीआरटीसी को विशिष्ट परियोजनाओं को लागू करने के लिए अलग से सहायक कंपनियों के गठन करने का अनुमति है।