अवलोकन

योजना आयोग ने सन 2005 में शहरी विकास मंत्रालय के सचिव की अध्यक्षता में दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बहुस्तरीय परिवहन पद्धति विकसित करने के लिए एक कार्यबल का गठन किया था। इसे 2032 तक के परिप्रेक्ष्य को सामने रखते हुए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए समन्वित परिवहन योजना में सम्मिलित किया गया, जिसमें विभिन्न क्षेत्रीय केंद्रों को क्षेत्रीय त्वरित परिवहन पद्धति के ज़रिये परस्पर जोड़ने पर विशेष बल दिया गया था।

कार्यबल ने गलियारों को चिह्नित किया और विशेष रूप से दिल्ली-मेरठ, दिल्ली-पानीपत तथा दिल्ली-अलवर को प्राथमिकता देना तय किया। मार्च , 2010 में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड (NCRPB) ने मेसर्स दिल्ली इंटिग्रेटेड मल्टीमीडिया मोडल ट्रांजिट को दिल्ली-मेरठ तथा दिल्ली-पानीपत और मेसर्स अर्बन मास ट्रांजिट कंपनी लिमिटेड को दिल्ली-अलवर की व्यावहारिकता का अध्ययन तथा विस्तृत परियोजना रिपोर्ट देने के लिए नियुक्त किया।

  • आर आर टी एस राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अंतर्गत आनेवाले विभिन्न क्षेत्रों को जोड़ने की नई, उद्देश्य-विशेष की पूर्ति के लिए उच्च क्षमतावान, सुविधाजनक यात्री सेवा है।
  • आर आर टी एस पारंपरिक रेल पद्धति से भिन्न होगी। यह विश्वसनीय, उच्च आवृत्ति और तेज गति की एक स्थान विशेष से दूसरे स्थान विशेष तक यात्रियों को पहुँचानेवाली क्षेत्रीय सेवा होगी।
  • यह आर आर टी एस मेट्रो सेवा से भी भिन्न होगी। यह तेज गति से और कम स्टेशनों पर रुकते हुए यात्रियों को अपेक्षाकृत लंबी दूरी तय करने में मदद पहुँचाएगी।
rrts-map
prioritised corridor