जयपुर में हितधारक परामर्श कार्यशाला का आयोजन

एसएनबी अर्बन कॉम्प्लेक्स-सोतानाला आरआरटीएस कॉरिडोर के डीपीआर को अंतिम रूप देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुये जयपुर मे एक हितधारक परामर्श कार्यशाला आयोजन किया गया। एसएनबी-सोतनाला आरटीएस कॉरिडोर प्राथमिकता वाली दिल्ली-अलवर आरटीएस परियोजना का एक हिस्सा है। कार्यशाला में कॉरिडोर से सम्बंधित विभिन्न स्टेकहोल्डर जैसे एमओएचयूए, एनसीआरपीबी, राजस्थान सरकार के विभिन्न विभाग, डीएमआईसी, यूआईटी और यूडीएच, पर्यावरण और वन मंत्रालय, भारतीय रेलवे और डीएमआईसीडीसी सहित विभिन्न सरकारी संस्थानों से विस्तृत चर्चा हुई। कार्यशाला को संबोधित करते हुए राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव श्री डी.बी. गुप्ता ने कहा, “पूरे देश में तेजी से शहरीकरण हो रहा है और इस मामले में राजस्थान एक अग्रणी राज्य है। पिछले 15-20 वर्षों में शहरी विकास अभूतपूर्व रहा है। आरआरटीएस न केवल शहरीकरण के कारण उत्पन्न होने वाले मुद्दों का समाधान करने में मदद करेगा बल्कि क्षेत्र में प्रदूषण को भी काफ़ी कम करेगा।” राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) की टीम ने प्रतिभागियों को प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी दी। परियोजना का विवरण देते हुए, एनसीआरटीसी के प्रबंध निदेशक श्री विनय कुमार सिंह ने कहा, “दिल्ली-गुरुग्राम-अलवर आरआरटीएस कॉरिडोर क्षेत्र में परिवहन के लिए एक गेमचेंजर होगा। यह न केवल सामाजिक-आर्थिक विकास का कारक होगा बल्कि एनसीआर के लोगों और स्थानों को और करीब लाएगा।”